today history 23 नवम्बर का इतिहास कि समसामयिक घटनाये

ग्रेगरी केलेंडर के अनुसार 23 नवम्बर का दिन साल का 327 वाँ दिन ( लिप वर्ष में 328 वां दिन ) होता है . इस वर्तमान साल में अभी 38 दिन शेष रह चुके है .

today history 23 नवम्बर का इतिहास कि समसामयिक घटनाये

23 नवम्बर का जन्मे महान व्यक्तित्व

भारतीय सिनेमा कि प्रसिद्ध पार्श्व गायिका गीता दत्त का जन्म 1930 में हुआ था .

आध्यात्मिक गुरु साईं बाबा का जन्म सन 1926 में हुआ था .

अमेरिकी विज्ञापन एजेंसी के कार्यकारी अधिकारी डोनाल्ड टेनान्ट का जन्म 1922 में हुआ था .

कृष्ण चन्द्र का जन्म सन 1914 में हुआ था ये हिंदी दशक के प्रमुख यशस्वी कथाकार थे .

प्रसिद्ध बाग्ला और अग्रेजी लेखक और महाविद्वान नीरद चन्द्र चौधरी का जन्म सन 1897 में हुआ था .

वे महान व्यक्ति जिनका 23 नवम्बर को निधन हुआ –

20 वीं सदी के सबसे महान लेखको में शुमार रोल्ड डॉल का निधन 1990 में हुआ था .

प्रकाशवीर शास्त्री का निधन सन 1977 में हुआ था ये संसद के लोकसभा सदस्य और आर्य समाज के लोकप्रिय नेता होने के साथ साथ संस्कृत भाषा के विद्वान् भी थे .

आद्रे मेलरो का निधन 1976 में हुआ था ये फ़्रांस राष्ट्र के प्रसिद्ध लेखक और कलाविद थे .

भारत के महान वैज्ञानिक जगदीश चद्र बसु का निधन 1937 में हुआ था .

क्रन्तिकारी लेखक , इतिहासकार और प्रसिद्ध पत्रकार सखाराम गणेश देउसकर का निधन 1912 में हुआ था .

23 नवम्बर के इतिहास कि महत्वपूर्ण घटनाये 

फिलिपिन्स राष्ट्र में 2009 में 32 मीडियाकर्मियों कि हत्या .

2007 में ऑस्ट्रेलिया में हुए चुनाव में लेबर पार्टी कि शानदार जीत हुई .

अमेरिका ने रूस कि जेट निर्माण कंपनी सुखोई के प्रतिबंध को 2006 में हटाया था .

G-20 देशो कि बैठक 2002 में दिल्ली में शुरू हुई .

साहित्य अकादमी के पुरुस्कार विजेता निराद सी चौधरी ने 1997 में अपने जीवन के 100 वर्ष पूर्ण किये .

भारत में पहली बार राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन का आयोजन सन 1983 में हुआ था .

वियतनाम राष्ट्र के हेफ्योंग शहर में फ़्रांसीसी जल सेना के जहाज में सन 1946 में भीषण आग लग गयी थी और इसमें 6 हजार लोगो कि मौत हुई थी .

अमेरिका के सेंट लुईस में तीसरे ओलंपिक खेल 1904 के आयोजन का समापन हुआ .

1892 के लोमानी कांगो युद्ध में बेल्जियम ने अरब को हराया था .

1890 में इटली में आम चुनाव हुए .

ब्रिटिश प्रधानमंत्री जान कार्टरे ने 1744 में इस्तीफा दिया था .

पॉप एलेक्जेंडर तृतीय निर्वासन के बाद 1165 में रोम वापस लोटे .

मित्रो आपको यह पोस्ट कैसी लगी इसके बारे में अपने विचार कमेंट में लिखे . और इस पोस्ट को शेयर करना  न भूले .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *