Why Radha and Shri Krishna not married?

भगवान विष्णु धरती लोक पर धर्म कि रक्षा के लिए कई बार अवतार लिया है और इसके साथ साथ माता लक्ष्मी ने भी अवतार लिया है . जब भगवान विष्णु ने धर्म कि रक्षा और अधर्म का नाश करने के लिए श्रीकृष्ण के रूप में मानव अवतार लिया तो माता ने भी रुकमणी के रूप में मानव अवतार लिया था . इससे पहले रामायण के अनुसार भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी ने राम – सीता के रूप में अवतार लिया था . माता लक्ष्मी ने विदर्भ देश के राजा कि पुत्री के रूप में अवतार लिया था और उन्होंने अपनी पुत्री का नाम रुकमणी रखा था .

Why Radha and Shri Krishna not married?

कृष्ण के मामा कंश के सयोगिनी पूतना राक्षसी रुकमणी को मारने के लिए विदर्भ आ गयी और अपने जहरीले दूध को रुकमणी को पिलाने का असफल प्रयाश करने लगी . जब छोटी बची रुकमणी के रोने कि आवाज लोगो ने सुनी तो वे महल में आ गयी लोगो को देखकर पूतना राक्षसी रुकमणी को लेकर विदर्भ से दूर चली गई और आसमान में उड़ने लगी . अब रुकमणी अपनी रक्षा करने के लिए अपना वजन बढाती है वे अपना वजन इतना कर लेती है पूतना इनको उठा नहीं पाती है और इनको निचे गिरा देती है . रुकमणी जी पूतना के हाथो से छुटकर धरती पर एक तालाब में स्थित कमल के फूल में विराजमान हो जाती है . यह तालाब बरसाना में स्थित था .

जहाँ पर रुकमणी गिरी थी वहां से वृषभानु और उनकी पत्नी कृति देवी वहा से गुजर रहे थे उन्होंने रुकमणी को देखकर वहा से उठा लिया . संयोग से वृषभानु और कोई संतान नहीं थी . इन्होने भगवान कि इच्छा समझकर रुकमनी जी को अपनी बेटी मान लिया और इनका नाम राधा रख दिया . राधा जी के बड़ी होने पर उनकी मुलाकात गोकुल के कन्हेया से होती है और दोनों में प्रेम हो जाता है . इनके रासलीला के किस्से आपने बहुत सुने होंगे . हम अपने मुख्य सवाल पर आते है कि आखिर श्रीकृष्ण ने राधा जी से विवाह क्यों नहीं किया ??

श्रीकृष्ण कंश का वध करने के लिए गोकुल और राधा को छोड़कर मंथुरा चले जाते है श्रीकृष्ण ने राधा से वादा किया था कि वे वापिस आकर उसके ले जायेंगे और अपनी पत्नी बनायेंगे . मित्रो पर ऐसा हो नहीं सका . क्योंकि श्रीकृष्ण के जाने के कुछ समय बाद विदर्भ के राजा को पता लग जाता है कि उनकी पुत्री रुकमणी बरसाना में है उनका नाम अब राधा है , इसके बाद वे अपनी पुत्री रूकमनी को वहां से ले जाते है .

विदर्भ के राजा श्रीकृष्ण से घृणा करते थे और उनको पसंद नहीं करते थे इसलिए रुकमणी कि शादी किसी और तय कर दी गयी पर श्रीकृष्ण ने रुकमणी को हरण कर लिया और उनसे विवाह कर लिया था .तो मित्रो आपको अब समझ आ गया होगा कि राधा जी और रुकमणी जी अलग अलग नहीं थे . इसलिए श्रीकृष्ण ने रुकमणी से विवाह किया तो वे राधा जी से विवाह कैसे करते .

अगर आपको यह लेख पसंद आया है तो इसे अपने मित्रो और परिजनों के साथ शेयर करना न भूले . आप कमेंट करके बताये कि आप इस लेख के बारे में कैसा सोचते है .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *